Monday , October 23 2017
Breaking News
Home / Breaking News / युवाओं में सबसे ज्यादा बढ़ रही पैर सूजने की बीमारी

युवाओं में सबसे ज्यादा बढ़ रही पैर सूजने की बीमारी

एक ताजा शोध में यह बात सामने आई है कि ‘वैरिकोज वेन्स’ यानी पैरों की नसें सूजने की बीमारी युवाओं में चिंता का कारण बन रही है। आपको बता दें इस रोग से सबसे ज्यादा महिला ग्रसित है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के अनुसार, पैरों की नसें सूजने के कुछ प्रमुख कारण हैं शारीरिक व्यायाम न करना, एक ही जगह देर तक बैठे रहना, तंग कपड़े और ऊंची एड़ी के जूते पहनना

यह रोग तब होता है, जब निचले अंगों की नसों के वाल्व क्षतिग्रस्त हो जाते हैं। नतीजतन, निचले अंगों से हृदय की ओर रक्त का प्रवाह कम हो जाता है। इससे नसों में खून एकत्रित होता रहता है और पैरों में सूजन आ जाती है. यह रोग आमतौर पर पैरों में पाया जाता है। डॉकटरों के मुताबिक “पैर में कई वाल्व होते हैं जो रक्त को हृदय की दिशा में प्रवाहित होने में मदद करते हैं। वैरिकोज अल्सर दोनों पैरों में हो सकता है। जब ये वाल्व क्षतिग्रस्त हो जाते हैं, तो सूजन, दर्द, थकान, खुजली और रक्त के थक्के बनना शुरू हो होता है। यह एक धीमी लेकिन परेशानी वाली बीमारी है.””इस कंडीशन के बारे में कई लोगों में जागरूकता की कमी है। चिंता की बात तो यह है कि इस रोग की अनदेखी हो जाती है और लोग समय पर उपचार नहीं कराते। मय पर इलाज न होने से अल्सर, एक्जिमा और उच्च रक्तचाप हो सकता है.

 

 बचने के लिए कुछ उपाय : 

  • नियमित रूप से पैदल चलने से पैरों में रक्त परिसंचरण बढ़ेगा.
  • वजन और आहार को नियंत्रित करें. पैरों पर दबाव से बचने के लिए अधिक वजन ठीक नहीं. नमक कम ही खाएं.
  • आरामदायक कपड़े और जूते पहनें
  • पैरों को ऊपर उठाइए. अपने दिल की ऊंचाई तक पैरों को ऊपर उठाइए। लेट कर अपने पैरों के नीचे तीन-चार तकिये भी रख सकते हैं.
  • लंबे समय तक बैठना या खड़े रहना उचित नहीं

 

ये भी पढ़े

बॉडी बिल्डिंग चैम्पियनशिप में विश्व विजेता बने विपनेश

Share this on WhatsAppगाजियाबाद(शिवम गौड़) बॉडी बिल्डिंग के मिस्टर गाजियाबाद रह चुके विपनेश चौधरी ने फिर …

error: Content is protected !!